Nazar Ki Dua: Boori Nazar Se Bachne Ke Liye

बोहोत लोग परेशान होते है की कही उनको और उनके परिवार को बुरी नज़र न लग जाये। लोगोंको लगता है की ऐसी बुरी नज़र से बचना बोहोत जरूरी होता है। इसलिए हम इस आर्टिकल में आपको ‘Nazar Ki Dua‘ के बारे में बताएँगे, जिससे आप बुरी नज़र से बचने में कामयाब हो पाएंगे। सभी दुआ जानने के लिए ये आर्टिकल पूरा पढ़िए।

आपने कई बार लोगोंको कहते हुए सुना होगा की उनके किसी रिश्तेतार को नज़र लग गयी। इस्लाम के शुरुवात से ही नज़र लगने के बारे में जानकारी मिलती है। इस्लाम के संस्थापक भी नज़र से बचने के लिए दुआ करते थे।

Table of Contents

नज़र किसीको भी लग सकती है चाहे वो बच्चा हो या बड़ा आदमी। इसके बाद आपको कुछ परेशानियोंका सामना करना पड़ता है। नज़र किसी के नए शादी हो जाने पे , किसीकी सुंदरता पे या फिर किसीके व्यापर पर लग सकती है। लोगोंके के अनुसार ऐसा होने के बाद जिंदगी पहले जैसी खुशहाल नहीं रहती।

ऐसी नेगेटिव लोगोंकी एनर्जी से बचने के लिए कुरान में दुआ बताई गयी है जो हम आपके साथ शेयर करना चाहते है। साथ में हम इसके इस्तेमाल का तारीख भी बताएँगे। आपको इसको रोज पढ़ना है जबतक आपको नज़र का असर ख़त्म हुआ दिखाई नहीं देता।

Nazar Ki Dua

أَعُوذُ بِكَلِمَاتِ اللَّهِ التَّامَّةِ مِنْ كُلِّ شَيْطَانٍ وَهَامَّةٍ وَمِنْ كُلِّ عَيْنٍ لامَّةٍ

A’uzu bi kalimatilla hit-taammati min kulli shaytaa new-wa hammah wa min kulli ay nil-lammah

अवज़ू बि-कलिमातील्लाही तमात्ति मीन कुल्ली शैतानींन व हम्मातींन वा-मिन कुल्ली अयेनिन लामातिन।

मैं हर शैतान और जहरीले जानवरो से और हर बुरी, हानिकारक, बुरी नजर से आपके मुकम्मल लब्ज़ो के साथ शरण चाहता हूं.

O Allah! I seek Refuge with Your Perfect Words from every devil and from poisonous pests and from every evil, harmful, envious eye.

Hadith Kya Kehti Hai

The Prophet (ﷺ) used to seek Refuge with Allah for Al-Hasan and Al-Husain and say: “Your forefather (i.e. Abraham) used to seek Refuge with Allah for Ishmael and Isaac by reciting the following: ‘O Allah! I seek Refuge with Your Perfect Words from every devil and from poisonous pests and from every evil, harmful, envious eye.’ “

Sahih al-Bukhari 3371

ये दुआ क़ुरान के Sahih al-Bukhari 3371 में बताई गयी। इसका इस्तेमाल इस्लाम के संस्थापक करते थे। इसमें आपको दुआ दिखेगी जो उनको बुरी नज़र और जेहरीले जनवरोंसे बचने में मदद करती थी।

इसमें बताया गया है की तुम्हारे पूर्वज अब्राहम ये दुआ पढ़ते थे, “हे अल्लाह मुझे हर बुरी , शैतानी नज़र और जेहरीले जानवर से बचने के लिए मै तुम्हारे शरण आता हु। ” आप इसे नज़र उतरने के लिए निचे दिए गए तरीके का इस्तेमाल कर सकते है।

Dua Ko Kaise Padhe

अगर आप बच्चे , औरत या फिर बूढ़े हो तो आप बुरी नज़र का शिकार बन सकते है। ऐसा होने पर आपको घबराने की जरूरत नहीं है बस आपको ऊपर दी गयी दुआ का इस्तेमाल करना सीखना होगा। इसे आप हररोज पढ़ सकते है।

इस दुआ का इस्तेमाल करने का तारीख हम आपको बताते है। आपके ये दुआ ११ बार पढ़के इसका इस्तेमाल करना है। आपको ये दुआ पढ़ने से पहले वजू करे। जो इंसान नज़र की लपेट में आगया हो जबतक वो ठीक नहीं हो जाता तबतक आपको इस दुआ का इस्तेमाल करना होगा।

कई बार आपके आसपास के लोग जानबूझके या न चाहते हुए आपको बुरी नज़र का शिकार बना देते है। तब आपको इस दुआ का इस्तेमाल से फायदा मिलेगा। इस दुआ का इस्तेमाल खूबसूरत औरते , बच्चे , बूढ़े या अन्य किसीबी उम्र के इंसान पर किया जा सकता है। नजर का असर कम भी हो गया हो तब भी आप अगर इस दुआ को इस्लाम के अनुसार रोज पढ़ेंगे तो आपको फायदा होगा। इससे आपको जिंदगी में एक भरोसा मिलेगा की आप अब बुरी चीजों से सुरक्षित है।

FAQ

Nazar ki du kya hai?

Ans. अगर आपको लगता है की किसी की बुरी नज़र से आपको परेशानी हो रही है तो उससे बचने के लिए इस्लाम में बताया गया तरीका ‘नज़र की दुआ’ है।

Leave a Comment